Amazing benefits of muskmelon in hindi | खरबूजा खाने के फायदे

Amazing benefits of muskmelon in hindi | खरबूजा खाने के फायदे

खरबूजा खाने के फायदे
खरबूजा खाने के फायदे

फलों में खरबूजा भी एक उत्तम फल माना गया है।

फलों में खरबूजा भी एक उत्तम फल माना गया है। यह स्वादिष्ट, हलका तथा सुपाच्य है। इसका गूदा सरलता से पच जाता है। इसके रासायनिक तत्त्व शरीर के लिए लाभदायक है। इसके गूदे को मिक्सी में डालकर गाढ़ा रस बनाया जा सकता है। गरमी में यह रस पीने से लाभ होता है। खरबूजा काटने पर हलके लाल या सफ़ेद रंग का पानी निकलता है। यह खरबूजे का रस है। इसको छानकर पीने से गरमी में प्यास बुझती है। लू लग जाने पर यह रस शरीर में ठण्डक उत्पन्न करता है। खरबूजा लाभदायक फल है।
लोगों को यह भ्रम है कि खरबूजे में रस नहीं होता है। यदि होता भी है, तो निकाला नहीं जा सकता। वास्तव में रस की दृष्टि से अन्य रसीले फलों की तरह खरबूजे का रस भी उपयोगी है। । गरमी के मौसम में खरबूजा हमारे देश के प्रत्येक भाग में बहुतायत से उपलब्ध होता है। इसके अन्दर का गूदा हलका लाल या सफ़ेद रंग का होता है, जिसमें खनिज एकत्रित हो जाते हैं। बाहर से इसका अन्दाजा नहीं लगता

खरबूजा काफ़ी लोकप्रिय फल है।

लगभग सारे देश में यह उपलब्ध है। नदियों के छोरों पर इसका उत्पादन बालू में सरलता से कम लागत पर होता है और फलों में यह सबसे कम कीमत का फल माना गया है। गरीब भी इसे ख़रीद सकते हैं। खरबूजे के गुण महत्त्वपूर्ण हैं। खरबूजा पेट भर खाने के बाद फौरन पच जाता है। यह बहुत हलका होता है और आमाशय में जाते ही घुलकर पानी बन जाता है। खरबूजा ठण्डा | होता है। प्यास को शान्त करता है।

आयुर्वेद के विशेषज्ञों के अनुसार।

आयुर्वेद के विशेषज्ञों के अनुसार खरबूजे में अनेक गुण हैं। यह स्निग्ध, शीतल, गुरु, बलकारक, कोष्ठ को शुद्ध करने वाला, वीर्यवर्धक, वात और पित्त नाशक है। उन्माद नाशक, दाह को दूर करने वाला, कफ नाशक, श्रमहारी और पेट के विकारों को दूर करने वाला उपयोगी फल है। भोजन के अन्त में 250-300 ग्राम की मात्रा में खरबूजा खा लेने पर भोजन शीघ्र पच जाता है। यह मस्तिष्क को ठण्डक देता है तथा अच्छी नींद लाता | खट्टा और फ़ीका खरबूजा स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। खट्टा और फ़ीका रस प्रधान खरबूजा खाने के उपयोग में नहीं लाना चाहिए। खरबूजे के पके गूदे में पौन भाग पोषक तत्त्व, चौथाई भाग चिकनाई, साढ़े सात भाग का बीज, चौथाई भाग खनिज पदार्थ और नब्बे भाग पानी होता है।

गरमी के दिनों में खरबूजा खाना।

गरमी के दिनों में खरबूजा खाना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है, बशर्ते उसे ढंग से खाया जाये। पहले खरबूजे को पानी से धोकर फांके कर लें। बाद में उन फांकों को पानी भरे बर्तन के मुंह पर ठण्डा होने के लिए रख दें। फांके जब ठण्डी हो जायें, तो उनको काटकर फांके बना लें। तब खाने पर स्वाद भी मिलता है। इस बात का ध्यान रखें कि खरबूजा खाने के बाद पानी न पियें और न ही दूध का सेवन करें।
खरबूजे की सब्जी कोष्ठबद्धता करती है। बलदायक, वीर्यवर्द्धक, ठण्डी और पित्त-वात नाशक है। शरीर पर सूजन हो जाने पर खरबूजे के रस का लेपकर हलके-हलके थोड़ी मालिश करने पर सूजन पिचक जाती है। गले पर यह लेप लगाकर ऐसा करने पर श्वास-कष्ट में आराम मिलता है। लू लग जाने पर खरबूजे के बीज पीसकर सिर पर लेप करें और शरीर पर भी लेप करें, तो लू का प्रभाव नष्ट हो जाता है।
खरबूजे के बीज को छीलकर निकली मींगी खाने से मस्तिष्क की शक्ति बढ़ती है। शरीर में ताकत आती है। प्रतिदिन कम-से-कम 10 ग्राम मीगी खाना लाभदायक है। कब्ज़ अधिक तंग कर रहा हो, तो एक दिन कुछ न खाकर केवल 500-700 ग्राम खरबूजे खाये। दूसरे दिन ही क़ब्ज़ जाता रहेगा। खरबूजे का गूदा और रस हमारे लिए बहुत उपयोगी है।

Share:

No comments:

Post a Comment

Ad

Popular Posts

Recent Posts

Ambiya e karam ka full wakiya

Contact us

Name

Email *

Message *