बवासीर को जड़ से खत्म करने का रामबान ईलाज | Ayurvedic Treatment for hemorrhoids

बवासीर को जड़ से खत्म करने का रामबान ईलाज | Ayurvedic Treatment for hemorrhoids

बवासीर को जड़ से खत्म करने का रामबान ईलाज
बवासीर को जड़ से खत्म करने का रामबान ईलाज

बवासीर को जड़ से खत्म करने का रामबान ईलाज :-

बवासीर दो प्रकार की होती है :- अंदर की और बाहर की । अन्दर की बावासीर में मस्से अन्दर को होते है । गोल-चपटे उभरे हुए मस्से चने-मसूर के दाने के बराबार भी होता है । कब्ज की वजह से जब अन्दर का मस्सा शौच करते समय जोर लगाने पर बाहर आ जाता है तो मरीज दर्द से तड़प उठता है और मस्से छिल जाएं तो जख्म हो जाता है । बाहर की बावासीर में मस्सा गुदा वाली जगह पर होता है, इसमें इतना दर्द नहीं होता । कभी-कभी मीठी खारिश या खुजली होती है । कब्ज होने पर इससे इतना खून आने लगता है कि मरीज खून देखकर घबरा जाता है और चेहरा पीला पड़ जाता है । । बावासीर की निशानी :-बावासीर से मरीज का हाजमा खराब हो जाता है । भूख नहीं लगती, कब्ज | रहने लगती है। पेट में कभी-कभी गैस बनने लगती है । मेदा, दिल, जिगर कमजोर हो जाते हैं। आमतौर से शारीरिक कमजोरी हो जाती है । मरीजों के मुंह पर हल्की सूजन भी आ जाती है ।

बाबासरी क इलाज :-50 ग्राम रीठे लेकर तवे पर रखकर कटोरी से ढक दें और तवे के नीचे आधा घंटा आग जलाएं । रीठे भस्म हो जाएंगे । ठंडा होने पर कटोरी हटाकर बारीक करके रीठे की भस्म 20 ग्राम, कत्था सफेद 20 ग्राम, कुश्ता फौलाद 3 ग्राम सबको बारीक करके मिला लें । वजन खुराक 1 ग्राम | सुबह को, 1 ग्राम शाम को, 20 ग्राम मक्खन में रखकर खाएँ ऊपर से 250 ग्राम दूध पी लिया करें ।

10-15 दिन खाएं, यह बहुत बढ़िया दवा है। खूनी बादी बवासीर को दूर करेगी । परहेज-गुड़, गोश्त, | शराब, आम, अँगूर न खाएँ, कब्ज न होने दें और नीचे लिखा मरहम मस्सों पर लगाएँ । | मरहम बावासीर :- वैसलीन सफेद 50 ग्राम, कपूर 6 ग्राम सल्फाडायजीन की 3 गोली, बोरिक एसिड 6 ग्राम सबको बारीक करके वैसलीन में मिलाकर रात को सोते समय सुबह शौच जाने से पहले दिन में एक बार रोजाना उंगली के साथ अन्दर-बाहर मस्मों पर लगाएँ । खूनी बवासीर :-गैंदे के हरे पत्ते 10 ग्राम, काली मिर्च 5 दानें, कँजा मिश्री 10 ग्राम, 60 ग्राम पानी | से रगड़ छानकर 4 दिन तक एक-एक बार पीएं। गर्म चीज न खाएं और कब्ज न होने दें ।

अफारा :-

1. अजयावयन, सौंफ, काला नमक 10-10 ग्राम, काली मिर्च 5 ग्राम बारीक कूट-छानकर ग्राम ताजा | पानी से लें, अफारा ठीक हो जाएगा । 2. काली मिर्च 5 नग पीसकर गोमूत्र के साथ सेवन करने से पेट का अफारा नष्ट हो जाता है ।

Share:

No comments:

Post a Comment

Ad

Popular Posts

Recent Posts

Ambiya e karam ka full wakiya

Contact us

Name

Email *

Message *