Hazrat musa alaihissalam ki mukammal wakiya Part 5 | islamic stories and urdu stories

Hazrat musa alaihissalam ki mukammal wakiya Part 5 | islamic stories and urdu stories

islamic stories and urdu stories
Hazrat musa alaihissalam ki mukammal wakiya
Click Here>>Preview Page

“Hazrat musa alaihissalaam” kaa Radd e Baatil Shuru karna :-

“Hazrat musaa alaihissalaam” Apni Waalida ke Paas Dhoodh Pine ke Zamaane tak rahe, Dhoodh Chhut ne ke Baad Aap ki Waalida Hazrat Musaa Alayhis Salaam ko Firoun ke Paas le Aayi Aur Aap Alayhis Salaam waha Palte rahe, Hazrat Musaa Alayhis Salaam ko Roz e Awwal se hi Apni Waalida ke Paas Rehne Aur Unki Baate Sunne kaa Mouqa Mil gaya tha, Saari Surate Haal(Haqiqat) se Aap Alayhis Salaam Achhi Tarah Aagah hoo gaye, Aap Alayhis Salaam koo Apne Jaleelul Qadr Aaabaa’a-Ajdaad(Baap-Dada) ke Mansabe Nabuwwat par Aagaahi hoo chuki thi, Aap Alayhis Salaam ne Jab deikha kee Firoun Khuda Ban Beitha hai Aur Logo se Apni Parastish(Pujaa) karaata hai to Aap kaa Touhid-Parast Zahan Uss Shirk koo Zyada Arsha Gawara Naa kar Saka Aur Aap Alayhis Salaam ke Jalaal Mizaaj ne Firoun ko Uss Na-Pasand Harkat par Tokaa Aur Aapne Firoun Aur Firouniyo kee Gumraahi kaa Radd Shuru kar Diya, Bani Israaeel Aapki Baat Sunte Aur Aapki Itteba karte Aahista Aahista Iskaa Charcha hoo gaya, Firoun koo vi Baraah-Raast(Direct) Khudaai Da’we se Touk Chuke the, Iss liye Qate Ta’aluq(Ta’aluq Todne) tak Nabuwwat Jaa Pahonchi Aur Aap Alayhis Salaam ko Mujrim Aur Baagi Samjha Jaane laga (MaazAllah..), Chunanche Uske Shar se Apne Aapko Mehfuz karne ke liye Rupush(Chhup) hoo gaye Aur Agar Kisi Zaruri Kaam ke liye Aapko Shahar mai Aana Padta to Ayse Waqt Shahar mai Aate kee Kaano kaan Kisi ko Khabar Na hoti,

Ek Qoul mai hai ki Aap Alayhis Salaam ke Shahar mai Chhip kar Daakhil hone kee wajah ye hai kee Hazrat Musaa Alayhis Salaam ne Firoun ke Saath Ikhtelaaf ko Zaahir Farma Diya Aur Firouniyo ke Buto Aur Firoun ki Ibaadat kee Mazammat kee To Unki Taraf se Sadeed Radd-e-Amal huwa Jiski Wajah se Aap Alayhis Salaam ne Apne Aapko Mehfuz karne ke liye Poshida(Chhipe) Rehne kee Raah Ikhtayaar kee.
(Tafseere Qurtubi, Jild-7, Safa-260)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-378, 379)

“Hazrat musa alaihissalam” kaa Qibti ko Ghunsaa(Mukka) Maarna:-


Quraane Majeed mai hai kee
“Aur Uss Shahar mai Daakhil huwa Jiss Waqt Shahar Waale Dophar ke Khwaab mai Be-khabar the to Usme 2 Mard Ladte Paaye Ek Musaa(Alayhis Salaam) ke Giroh se tha Aur Dusra Uske Dushmano se to Wah Jo Uske Giroh se tha Usne Musaa(Alayhis Salaam) se Madad Maangi Uss par Jo Uske Dushmano se tha To Musaa(Alayhis Salaam) ne Use Ghunsaa Mara to Uska Kaam Tamaam kar Diya Kahaa yah Kaam Seitaan kee Taraf se huwa Beshak wah Dushman hai Khulaa Gumraah karne Wala, Arz kee Ay Meire RABB Meine Apni Jaan par Ziyaadati kee To Mujhe Bakhsh de to RABB ne Use Bakhsh diya Beshak Wahi Bakhshne Wala Maherbaan hai, Arz kee Ay Meire RABB Jeisaa Tune Mujpar Ahesaan kiya to Ab Hargiz Mei Mujrimo kaa Madadgaar Naa Hunga”
(Surah Al Qasas, Aayat-15, 16, 17)

Jab Hazrat Musaa Alayhis Salaam Shahar mai Daakhil hue to Deikha kee 2 Aadmi Aapas mai Dast wa Girebaan hai Ek Israaeeli Aur Dusra Qibti, Israaeeli ne Aap Alayhis Salaam ko Madad ke liye Pukara, Aap Alayhis Salaam Aage Badhe kee Qibti ko Dast Daraazi(Ladne) se Manaa Kiya, Aap Alayhis Salaam ne Qibti se kaha kee Israaeeli par Zulm Naa karo, Use Chhod do, Lekin Wah Na Mana Aur Bura Bhalaa kehne Lagaa to Hazrat Musaa Alayhis Salaam ne Usko Uss Zulm se Rokne ke liye Ghunsaa(Mukka) Mara, Use Qatl karne kaa Iraada Naa tha Lekin woh Mukka Jaan-Leiwa Saabit huwa Aur Uska Qissa Tamaam ho gaya(Yaani wah Mar gaya),

Ek Qoul mai Un 2no ke Ladne kee Wajah Bayaan ki hai ki woh Qibti Israaeeli ko Lakadiyo ka ek Bhaari Gattha(Lakdi ka Bouj) Uthaane kaa Hukm de Raha tha Usne Uthaane se Inkaar kar Diya, Chunanche Uss Qibti ne Haakim Qoum kaa Fard hote hue Zabardasti Shuru kee, Itne mai Hazrat Musaa Alayhis Salaam Tashreef Laaye Aur Israaeeli ne Aap Alayhis Salaam se Faryaad kee Aur Hazrat Musaa Alayhis Salaam ne Uski Fariyaadrasi kee, Mahaz Is liye Nahi kee Fariyaad Karne Wala Israaeeli tha balki Uski Wajah ye thi kee Har Mazlum kee Madad karna Har Deen mai Farz hai,
(Tafseere Qurtubi, Jild-7, Safa-260)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis, Safa-379)

Qatl kaa Raaz Zaahir hona:-

Quraan Shareef mai hai kee
“To Subah kee Uss Shahar mai Darte hue Intezaar mai kee Kya hota hai Jabhi deikha kee wah Jisne Kal Unse Madad Chaahi thi Fariyaad kar rahaa hai Musaa(Alayhis Salaam) ne Usse Fharmaya Beshak Tu Khulaa Gumraah hai, To Jab Musaa(Alayhis Salaam) ne Chaha kee Uss Par Giraft Kare Jo Un Douno ka Dusman hai wah Bola Ay Musaa(Alayhis Salaam) Kya Tum Mujhe Veisaa hi Qatl karna Chaahte ho Jeisaa Tumne Kal Ek Shaksh ko Qatl kar Diya Tum yahi Chaahte ho kee Zamin mai Shakhtgir Bano Aur Islaah karna Nahi Chaahte”
(Surah Al Qasas, Aayat-18, 19)

Firoun kee Qoum ke Logo ne Firoun ko Khabar di kee Kisi Bani Israaeeli ne Hamaare Ek Aadmi ko Maar dala hai Uss Par Firoun ne Kahaa kee Qaatil Aur Gawaaho ko Talaash karo, Firouni Gast karte firte the Aur Unhe Koi Saboot nahi Mila tha, Dusre Din Jab Hazrat Musaa Alayhis Salaam ko Fhir Ittefaaq Peish Aaaya kee wahi Bani Israaeel Jisne Ek Din Pehle Unse Madad chaahi thi Aaj vi fhir Ek Firouni se Lad rahaa tha Aur Hazrat Musaa Alayhis Salaam ko deikh kar Unse Fariyaad Karne lagaa Tab Hazrat Musaa Alayhis Salaam ne Fahrmaya Beshak Tu Khulaa Gumraah hai Yaani Har Rouz Logo se ladta hi rahta hai, Apne Aapko vi Musibat Aur Pareshaani mai Daalta hai Aur Apne Madadgaaro ko vi Aur Ahtiyaat kyu nahi karta, Aap Alayhis Salaam ne Khub Daant ke Tour par Irshaad Fharmaya,

Fhir Hazrat Musaa Alayhis Salaam ko Uss Par Rahem vi Aagaya kee Firouni Bade Zaalim hai, Lihaza Uski Imdaad karni hi Chaahiye, Jab Aap Alayhis Salaam Aage Badhe kee Apne Aur Bani Israaeeli ke Dushman kee Gifat Kare to Uss Bani Israaeeli ne Galat-fehmi mai Khouf karte hue Samjha kee Aaj Shaayad Meira Kaam Tamaam karna Chaahte hai kaha kee Ay Musaa Alayhis Salaam Aaj Tum Mujhe Qatl karna Chaahte hoo Jeise kal Ek Shaksh ko Tumne Qatl kar Diya tha…?,
Uska ye kehna hi tha kee Raaz Khul gaya kee Kal Firouni ko Qatl Musaa Alayhis Salaam ne kiya hai, Jab Firoun ko ye Khabar Mili to Usne Musaa Alayhis Salaam ko Qatl karne kaa Hukm Naafiz kar Diya Log Aap ko Talaash karne lage.
(Tafseere Khzaainul Irfaan, Safa-465)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-381)

“Hazrat musa alaihissalam” kaa Madyan kee Taraf Hijrat karna:-

Quraane Hakeem mai hai kee
“To Uss Shahar se Nikle Darte huwe Iss Intezaar mai kee Ab Kya hotaa hai Arz kee Ay Meire RABB Mujhe Sitamgaaro (Zaalimo) se Bachaa le, Aur Jab Madyan ki Taraf Mutawajjeh huwe Kahaa Qarib hai Kee Meira RABB Mujhe Sidhi Raah Bataaye”
(Surah Al Qasas, Aayat-21, 22)

Madyan se Muraad woh Shahar hai Jahaa Hazrat Shoaib Alayhis Salaam Tashreef Farmaa the, Us Shahar koo Madyan Bin Ibhraahim kee Taraf Mansub kiya gaya tha, Misr Aur Madyan mai 8 Dino kee Doori thi, Iss Shahar par Firoun kee Hukmuraani Nahi thi, Isi Wajah se ALLAH TA’ALA ne Aap Alayhis Salaam koo Ishi Shahar kee Taraf Jaane kee Hidaayat di, Hazrat Musaa Alayhis Salaam ne ye Shahar Iss se Pehle Kabhi Naa deikha tha Aur Naa hi Iskaa Raasta Jaante the, Koi Sawaari Paas nahi thi Raaste kaa koi Kharch Apne Paas nahi tha, Sirf Darakhto ke Patto par Guzar kar ke Aap Alayhis Salaam ne Raaste kee Doori Koo Tay kiya, Raasta Dikhaane ke liye ALLAH TA’ALA ne Jibrail Alayhis Salaam koo Muqarrar Fharmaya, Firouni Log Aapko Talaash Karte rahe Lekin Aap Alayhis Salaam koo Talaash Naa kar Sake Kyun ki Madyan koo Jaane Waale 3 Raaste the Aap Alayhis Salaam ne Darmiyaani Raah koo Ikhtayaar kiya Aur woh Dusre Raasto par Aapko Talaash kar rahe the, Jab RABB TA’ALA Aap Alayhis Salaam kee Hifaazat kar rahaa tha to woh Aapko Talaash kar vi keise Sakte the…?
(Tafseere Roohul Ma’ani, Jild-11, Hissa-1, Safa-59)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-382)

Click Here>>Next Page
Share:

Amazing benefits of apple in hindi | सेब के फायदे और सेब खाने का सही समय | green apple benefits

Amazing benefits of apple in hindi | सेब के फायदे और सेब खाने का सही समय | green apple benefits

Amazing benefits of apple in hindi | सेब के फायदे और सेब खाने का सही समय | green apple benefits
सेब के फायदे और सेब खाने का सही समय

सेब भी एक उपयोगी फल माना गया है।

सेब भी एक उपयोगी फल माना गया है। सेब और सेब का रस, दोनों ही मनुष्य के लिए हितकर हैं। सेब का 1/7 भाग ठोस होता है। अधिकांश भाग खांड और प्रोटीन है। खाली पेट खाने से भूख बढ़ती है। खाली पेट तीन-चार सेब खाने से क़ब्ज़ दूर हो जाती है। मस्तिष्क के रोग दूर करने में सेब अद्वितीय ओषध है; क्योंकि इसमें फास्फोरस दूसरे फलों और शाकों की उपेक्षा अधिक है। खाली पेट सांझ-सवेरे सेब खाने से शरीर फुर्तीला और चुस्त बन जाता है। दुर्बल और शिथिल पित्ताशय वालों के लिए यह विशेष लाभदायक है। सेब का छिलका उतार देना बहुमूल्य भाग को फेंक देना है; क्योंकि इस छिलके में विटामिन 'सी' होता है।
बूढ़ों और दुर्बलों के लिए इसी मोटे छिलके की चाय बहुत लाभदायक होती है। इस चाय में यदि नीबू का रस और शहद भी मिला दिया जाये, तो इसमें तीन गुना अधिक स्वास्थ्यवर्द्धक अंश बढ़ जाता है। यह चाय आमाशय एवं अंतड़ियों के लिए लाभदायक है। इससे पेचिश और टायफाइड दूर होता है। सेब का रस और अर्क यकृत के रोगों, जैसे-पाण्डु रोग में बहुत काम देता है। यह भूख बढ़ाता है, मूत्र पिण्ड को साफ़ करता है। यकृत को चुस्त बनाता है, आमाशय को जगाता है, आंतड़ियों को चुस्त करता है। सेब का ताजा रस सब फलों के रस से श्रेष्ठ है। गठिया रोग में सेब की चाय से (यदि यथेष्ठ मात्रा में ली जाये) बहुत शीघ्र लाभ होता है।

सेब के रस के प्रयोग से लाभ।

सेब के रस के प्रयोग से लाभ का कारण उसमें पाये जाने वाले रासायनिक तत्त्व हैं, जिसमें .03% प्रोटीन, .01 कैल्शियम, .02% फास्फेट तथा 17% लोहा होता है। इसमें फल शर्करा 60% और ग्लूकोज 25% होता है। इसके अतिरिक्त सेब में सोडियम, पोटाशियम, मैग्नीशियम, कैरोटीन, सल्फर, थियामीन, रिबोफ्लेबिन तथा अन्य कई उपयोगी विटामिन भी हैं। कच्चे सेब में स्टार्च (श्वेतासार) सबसे अधिक होता है। पेक्टीन, कार्बोहाइड्रेट का एक रूप भी रहने के कारण यह हृदय रोगों के लिए विशेष उपयोगी होता है।
यदि पथरी हो गयी हो, तो उपवास कर केवल सेब पर पांच-सात दिन रहा जाये, तो पथरी गलकर बह जाती है।सेब में फास्फोरस और कैल्शियम अधिक मात्रा में विद्यमान है। 'ए', 'बी', 'सी' और 'डी' अधिक मात्रा में विद्यमान है। 250 ग्राम सेब में लगभग 100 यूनिट विटामिन पाया जाता है। सेब में अम्ल तत्त्व भी होता है, जो शरीर में ईंधन के रूप में प्रयुक्त होता है। अम्ल तत्त्व 0.19 से 1.11 प्रतिशत में पाया जाता है। यदि चबा-चबाकर खाया जाये, तो यह दांत और मसूड़ों को मजबूत करता है। 
दांत के रोगियों के लिए तो यह विशेष लाभदायक है। चिकित्सा-शास्त्रियों ने फलों के स्वास्थ्यवर्द्धक एवं रोगनाशक गुणों का विशद अध्ययन किया है। भारत के फलों के विषय में आयुर्वेद ने काफ़ी अनुसंधान किया है। आयुर्वेद के अनुसार सेब कसाय और मधुर रस प्रधान, • शीतल और ग्राही होता है। इससे रक्त और मांस बढ़ता है। निर्बल रोगियों को बल मिलता है।' भाव-प्रकाश' नामक ग्रन्थ में लिखा है कि सेब मधुर, शीतल, स्वादिष्ट, वात व पित्त के दोष को नाश करने वाला, कफ वृद्धि कारक, पौष्टिक तथा वीर्यवर्द्धक आदि गुणों वाला होने के कारण हृदय और मस्तिष्क के लिए लाभदायक है।

सेब भी फलों का एक राजा है

सेब भी फलों का एक राजा है और प्रारम्भ से ही गुणकारी और उपयोगी होने के कारण पसन्द किया जाता है। यह फलों की उस कोटि में रखा गया है, जिन्हें 'रक्षात्मक भोजन' कहा गया है। शक्ति देने के अतिरिक्त सेब मानव शरीर के विकास में महत्त्वपूर्ण कार्य करता है। सेब की सभी किस्मों में विटामिन 'सी' प्रचुर मात्रा में विद्यमान रहता है। फल तोड़ने से लेकर सेब को सुरक्षित रखने के समय तक यह परिवर्तन नहीं होता, दो महीने तक चाहें वह ऊपर से सिकुड़ जाये, किन्तु इसके विटामिन तत्त्व कम नहीं होते हैं। इसके यह तत्त्व ताकत देने वाले महत्त्वपूर्ण जीवन तत्त्व हैं। ऊपर के छिलके में विटामिन 'सी' प्रचुरता में पाया जाता है। सेब के गूदे की अपेक्षा सेब के छिलके में विटामिन 'ए' भी पांच गुना अधिक होता है। 

सेब के खाने का पूरा-पूरा लाभ उठाने के लिए। 

सेब के खाने का पूरा-पूरा लाभ उठाने के लिए उसे छिलके से ही खाना चाहिए। फास्फोरस और लौह तत्त्व प्रधान होने के कारण सेब मस्तिष्क और शरीर की मांसपेशियों में शक्ति का सञ्चार कर उन्हें सुदृढ़ बनाता है। सुविधानुसार पके सेब लेकर उनके अन्दर से बीज इत्यादि साफ़ कर लें और कूटकर रस निकाल लें। इसे अपनी पाचन शक्ति के अनुसार काम में लायें। जायका बढ़ाना चाहें, तो कुछ शहद और नीबू का रस भी मिश्रित कर ले ।दिल और दिमाग की कमजोरी दूर करने, चित्तभ्रम और घबराहट दूर करने में सेब का रस लाभदायक सिद्ध होता है। सेब का विशेष स्वाद सुगन्ध और जायके का स्वादिष्ट मिश्रण है। खांसी, जुकाम होने पर सेब से शान्ति मिलती है।
दूध पीते बच्चों को सुबह-शाम एक चम्मच सेब का रस देने से शिशु हृष्ट-पुष्ट बना रहता है और शिशु का वजन भी बढ़ता है। सेब का रस एक गिलास नित्य पीने से गर्भवती स्त्री स्वस्थ शिशु को जन्म देती है। सेब का रस बड़ा गुणकारी और उत्तम माना गया है।
Share:

Hazrat musa alihissalam ka bachpan or firon ka wakiya Part 4 | islamic stories and urdu stories

Hazrat musa alihissalam ka bachpan or firon ka wakiya Part 4 | islamic stories and urdu stories

Hazrat musa alihissalam ka bachpan or firon ka wakiya Part 4 | islamic stories and urdu stories
Hazrat musa alihissalam ka bachpan or firon ka wakiya
Click Here>>Preview Page

“Hazrat musa alihissalaam”kee Waalida Aur Bahen ki Be-Qaqaari :-

Quraane Hakeem mai hai kee
“Aur Subah ko Musaa(Alayhis Salaam) kee Maa ka Dil Besabr ho gaya Zarur Qarib tha kee Wah Uska Haal Khoul deiti Agar Ham Dhaaras Na Bandhaate Uske Dil par kee Usse Hamaare Waade par Yaqin rahe, Aur Uski Maa ne Uski Behan se Kahaa Uske Pichhe Chali Jaa to wah Use Door se deikhti rahi Aur Unko Khabar Na Thi”
(Surah Al Qasas, Aayat-10, 11)

“Hazrat musa alihissalam”  kee Waalida ko Jab yeh Khabar Mili kee Baccha Firoun ke Haath Aagaya to Aapko Bahot Zyada khouf huwa kee kahi Qatl Na Karde Yaa ye kee Aap ko Jab yeh Khabar Mili kee Firoun ke Haath Taabut Aagaya hai to Aapke Housh Ud gaye Lekin ALLAH TA’ALA ne Aapke Dil mai Fir Ilqaa’a kiya(Dil mai Daal Diya) kee Firoun kee Biwi ne Musaa Alayhis Salaam ko Apna Beita Banaa liya To Aapke Dil ko Tasalli Hui Agar ALLAH TA’ALA Aapke Dil ko Dhaarash Na Bandhaata to ho Sakta hai kee Aap Daryaa mai Feinkte Waqt Waaveilaa Shuru kar deite kee Haay Meira Baccha… Haay Meira Baccha…kee Pukaar se Log Khabardaar ho Jaate Yaa Aapko Jab yeh Khabar Mili kee Firoun kee Zouja Aaasiyaa Bacche par Maherbaan ho gayi Uss Waqt Aap Khushi se Zaahir kar deiti kee Meire Bacche ko ALLAH TA’ALA ne Bachaa liya hai Lekin ALLAH TA’ALA ne Aap koo Zaahir karne se Door rakhaa,

Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Bahen kaa Naam ‘Maryam’ tha, ‘kulshum’ Aur ‘Kulsuma’ vi Bayaan kiyaa gaya hai Magar Mashoor ‘Maryam’ hai,

Aapki Waalida ne Maryam ko Kahaa kee Jaao deikho Taabut kidhar gaya, Kya Waaqei Firoun ke Haath Aagaya hai..?? Unhone Bacche se Kya Suluk kiya.. ?? Maryam Dur Dur se deikhti rahi Taaki Unhe Pataa Na Chal Sake.

 Note:- Hazrat Isa Alayhis Salaam kee Waalida kaa Naam ‘Maryam’ Alayhis Salaam tha Aur Unke Waalid kaa Naam ‘Imraan’ tha, Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Sagi Bahen ka Naam vi ‘Maryam’ hai Aur Aapke Waalid ka Naam vi ‘Imraan hai’ Baaz Hazraat ne Waham kiya hai kee Hazrat Isaa Alayhis Salaam kee Waalida Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Bahen thi, yeh Galat hai In Dono Ambiya E Kiraam ke Darmiyaan Zamaane ke Aytebaar se Bahot Badaa Faaslaa hai.
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-376)

“Hazrat musa alihissalam”  kaa Dhoodh Na Pinaa :-

Quraane Majeed mai ALLAH TA’ALA Irshaad Fharmata hai
“Aur HAMNE Pehle hi Sab Daaiyaa Uspar Haraam Kar di thi to Boli Kya Mei Tumhe Bataadu Ayse Gharwaale kee Tumhaare Is Bacche ko Paal de Aur woh Iske Kheir-Khwaah hai,
(Surah Al Qasas, Aayat-12)

ALLAH TA’ALA ne Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Tabi’at mai Apni Maa ke Dhoodh ke Bageir Tamaam Dhoodh Pilaane waali Aurato se Nafrat Peida kar di thi, Firoun ne Bacche kee Parwarish ke liye Daaya Bulaane kaa Hukm Diya, Jo Daaya vi Aati Aap Alayhis Salaam Uska Dhoodh Naa Pite Lekin Bhook kee Wajah se Be-Karaar ho rahe the , Firoun vi Apni Zouja Aaasiyaa kee Wajah se Bacche kee Haalat se Fikr-Mand tha, Bacche ko Goud mai Lekar Tasalliya de Raha tha, Aur Keh rahaa tha kee Kaash koi Aysi Daaya Mil jaaye Jiska Dhoodh ye Baccha Pinaa Shuru kar de, Iss Mouqe ko Ganimat Samajhte hue Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Bahen ne Kahaa Me Tumhe Ek Ghar Waalo kaa Pataa Bataati hu Jo Iss Bacche kee Tarbiyat mai koi Kami nahi hone deinge, Jo Iski Parwarish kee Zamaanat deinge, Kisi Qism kee Khayaanat ke Murtakib nahi honge, Khulush se Sab Kaam karenge, Koi Nuqsh Laazim nahi Aane deinge, Aur woh Iske Kheir-Khwaah hai,

Jab Hazrat “Hazrat musa alihissalam”  kee Bahen ne yeh Kahaa kee woh Iske Kheir-Khwaah hai to Haamaan(Wazir) ne Kahaa ki ye Iss Bacche ke Khaandaan ko Jaanti hai Ise Pakad lo to Khud Bacche ke Gharaane kaa Pataa Chal Jaayega, Uss Waqt Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Bahen ne Kahaa Meira Matlab ye hai kee Uss Gharaane ke Log Baadshah ke Kheir-Khwaah hai, Chunki woh (Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Bahen) Khaandaane Nabuwwat kee Ladki thi Uski Zahaanat(Intelligence) Isi Qaabil thi kee Usne Nihaayat Haseen Jawaab de kar Apne Aap ko Aur Apne Bhai ko Bachaa liya, Uska yeh Jawaab Soon kar Firoun ne Kahaa Achha Tum Uss Aurat ko le Aao Jis ke Muta’alaq Tum keh rahi ho, woh Apni Maa ke Paas Aaye Aur Unhe le Gayi.
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-377)

Hazrat Musaa Alayhis Salaam kaa Apni Waalida ke Paas Aana:-

Quraane Kareem mai ALLAH SUBHAANAHU WA TA’ALA Irshaad Fharmata hai
“To HAMNE Use Uski Maa kee Taraf Feira kee Maa kee Aankh Thandi ho Aur Gam Naa Khaaye Aur Jaan le kee ALLAH TA’ALA ka Wada Saccha hai Lekin Aksar Log nahi Jaante”
(Surah Al Qasas, Aayat-13)

Hazrat Musaa Alayhis Salaam Firoun ke Haatho mai the, Bhuk Aur Pyaas kee Wajah se Be-Qaraar the, Firoun Aapko Tasalliya de Raha tha, Jabhi Aap Alayhis Salaam kee Waalida Pahonchi to Maa kee Khushbu Sungh kar Fouran Maa kee Taraf Lapke Aur Dhoodh pina Shuru kar Diya, Firoun ne Bade Ta’ajub se Puchha Tum koun ho..?? Is Bacche ne Tumhara Dhoodh Pasand kiya Haalaanki Kitni Daaiya Hamne Talab kee Kisi kaa Dhoodh Isne Nahi Piyaa,

Aap Alayhis Salaam kee Waalida ne Jawaab Diya
“Beshak Mai Aysi Aurat hu kee Mujh se Khushbu Aati hai Yaani Mei Apne Aapko Saaf-Suthraa Rakhti hu, Meira Libaas Saaf-Suthraa hota hai, Mei Achhe Qism kee Khushbu Istemaal karti hu Aur Qudrati Khushbu Bhi Meire Jism se Aati hai Meira Dhoodh vi Paakiza, Achha, Khush-Zaaiqa Aur Khushbudaar hai, Aaj Tak Meine Jis Bacche ko Dhoodh Pilaya Usne Zarur Meira Dhoodh piya hai”,

Firoun ne Hazrat Musaa Alayhis Salaam ko Aapki Waalida ke Supurad(Hawaale) kar Diya Aur Unka Kharch vi Muqarrar kar Diya,

ALLAH TA’ALA ne Aapke Dil mai Ek Wada Dala tha kee Tum Is Bacche ko Daryaa mai Daal do Mei Tumhaare Paas Ise Waapis Louta Dunga, Uss Wade ko ALLAH TA’ALA Ne Puraa Fharmaya Taaki Aap ki Waalida koo Yaqin ho jaaye kee Jab yeh Wada Puraa ho gaya hai to yeh Baccha RASOOL vi Zarur Banega, Aksar Log ALLAH TA’ALA kee Qudrat Aur Uski Hikmat se Be-Khabar hai woh ye Nahi Jaante kee Uski Qudrat ke Muqaabil Tamaam Tadbeere Kuchh Heishiyat nahi Rakhti.
(Roohul Ma’ani, Jild-11, Safa-50, 51)
(Tafseere Kabeer, Jild-24, Safa-205)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-377, 378)

Click Here>>Next Page
Share:

Hazrat Uzair alahis salaam ka wakiya | islamic stories and urdu stories

 Hazrat Uzair alahis salaam ka wakiya | islamic stories and urdu stories

 Hazrat Uzair alahis salaam ka wakiya | islamic stories and urdu stories
 Hazrat Uzair alahis salaam ka wakiya

“Hazrat Uzair alahis salaam” Bani Israil Beitul Muqaddas mai Aabad thi, jab woh Apne Gunaaho, Naafarmaani, Fisq wa Fuzur mai Hadd Paar kar gaye Aur Apne Nabi kee Itaa’at na kee to ‘Bukhte Nasr’ ne Beitul Muqaddas par Shakht Hamla kiya Aur Qabza kar liya, (Ye Hazrat Isaa Alayhis Salaam se Taqriban 600 Saal pehle kaa waqiya hai) Uske Saath 6,00,000(6 laakh) Alambardaar (Jhande Uthaane Waale) the Aur Har Jhande ke Niche Beshumaar Fouz thi, Usne Beitul Muqaddas ko Wiraan kar dala, Touraat Shareef ke Tamaam Nuskhe(Parche/Prescription) Jalaa diye, Bani Israail ke Taqriban ek Tihaai Logo ko Qatl kar diya Aur ek Tihaai Logo ko Shaam ke Ilaaqe mai Bahot Zillat se rakha, Aur Ek Tihaai ko Qeidi Bana liya Yaani Bani Israail ko 3 Hisso mai Taqsim kar liya tha, Un Qeidiyo mai Hazrat Uzair Aur Daaneyaal Alayhis Salaam vi the Jo Uss Waqt Bachpan kee Umar mai the.
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-350)

”Hazrat Uzair alahissalam”  kaa Ta’ajub karna :-

Quraane Paak mai ALLAH TA’ALA Irshaad Fharmata hai
“Ya(Aapne Nahi deikha) Uski Tarah jo Gujra ek Basti par Aur wah thai(Giri) padi thi Apni Chhato par Bola ise keishe Zilaaega ALLAH TA’ALA iski Mout ke baad”
(Surah Al Baqrah, Aayat-259)

Bahot Arshe ke baad jab kuchh Log Qeid se Aazad hue to un Aazad hone waalo mai Hazrat Uzair Alayhis Salaam vi the, Hazrat Uzair Alayhis Salaam Beitul Muqaddas se Guzre, jo uss Waqt Barbaad ho chuka tha Aap Idhar Udhar fire lekin Aap ko koi Nazar na Aaya, Baago mai Mukhtelaf Qism ke Darkht(Peid) Falo se bhare hue the, Falo ko Khaane wala koi na tha, Aapne Kuch Anjir Aur Angur Tod kar khaaye Aur Unka Rass Nikaal kar Piya Aur kuchh Anjir Aur Angur Toshaadaan mai rakh liye Aur Kuchh Rass vi Apne Paas rakh liya, Jab Aap ne Wiraan Aabadi ko deikha to Bade Ta’ajub se kehne lage RABB TA’ALA ishe Fir se Zinda karega…? Uski Keishi Azeem Qudrat hogi…? (Sawaal RABB TA’ALA kee Qudrat mai Shak ke Tour par nahi tha balki Apne Ta’ajub kaa Izhaar tha kee RABB TA’ALA is Basti ko Fhir Keishe Zinda karega…?)

ALLAH TA’ALA ne Apni Qudrate Kaamela ko Batana Chaha, Hazrat Uzair Alayhis Salaam jis Gadhe par Sawaar the Ushe Baandha Aur Apne Khaane Pine ke Fal Wageira Aur Angur kaa Rass jo Nichod kar Aapne Apne Paas rakha huwa tha Unhe Qarib hi rakh kar Aap So gaye, Soye hue Haal mai hi Aap par Mout ko Musallat kar diya gaya, Aap kaa Gadha vi Marr gaya, Ye Waaqiya Taqriban Dupher se pehle kaa tha,
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-351)

“Hazrat Uzair alahissalam”  koo Zinda karna :-

Quraane Kareem mai hai kee
“To ALLAH TA’ALA ne ushe Murda rakha Sou(100) Baras fhir Zinda kar diya Fharmaya Tu yaha kitna Thehra Arz kee Din bhar Thehra hunga ya kuchh kam Fharmaya Nahi Tuzhe Sou(100) Baras Guzar gaye Aur Apne khaane Aur Pine koo Deikh kee Ab tak Boo Na laya Aur Apne Ghadhe ko deikh kee jiski Haddiya tak Salaamat na rahi Aur yah iss liye kee Tuzhe ham Logo ke Waaste Nishaani kare Aur Un Haddiyo ko deikh kar keishe Ham Unhe Uthaan(Utha)deite fhir unhe Gost Pehnaate hai Jab yah Maamla Uspar Zaahir ho gaya bola Mei Khub jaanta hu kee ALLAH TA’ALA Sab kuchh kar sakta hai”
(Surah Al Baqrah, Aayat-259)

“Hazrat Uzair alahis salaam”  par Mout Taari ho gayi thi uske Baad Jis tarah Namrood kee Naak mai Machhar Ghus gaya tha Eyshe hi ‘Bukhte Nasr’ ki Naak mai vi Machhar Ghus gaya tha jis se who Marr gaya, Is tarah Bani Israail ko Aazadi mil gayi, Taqriban 70 Saal ke baad Faaras ke Baadshaho mai se ek Baadshah Apni Fouze le kar Beitul Muqaddas Pahoncha to usne Beitul Muqaddas ko Pehle se vi Behtar Tour par Aabad kar diya, Bani Israail Jo ‘Bukhte Nasr’ ke Muzaalim kee Wajah se Idhar-Udhar Bikhar gaye the Fhir Beitul Muqaddas mai Aabad ho gaye, 30 saal tak ye log Behtar haal mai Aa gaye, Aur Unki Nasl mai vi Izaafa ho gaya, 100 Saal ke baad ALLAH TA’ALA ne Hazrat Uzair Alayhis Salaam ko Zinda Fharma diya,

Itne Arshe mai ALLAH TA’ALA ne Aap ko Apni Qudrate Kaamela se Logo kee Nigaaho se chhupa Rakha Aur Aap ko Darinde, Parinde, Charinde Wageira vi Itna Arsha Na deikh sake, Aap par Wafaat Subah ke Waqt Dupher se pehle Aayi thi, Aur Aap Zinda Shaam ke Waqt hue, Jab RABB TA’ALA ne Aapse Puchha Kitni Deir yaha Thehre ho….? To Hazrat Uzair Alayhis Salaam ne Arz kiya Ek Din ya Us se vi Kuchh kam, ALLAH TA’ALA ne Aap ko Bataya yaha 100 Saal ho chuke hai,

Khane pine kee chize Jhu kee Tu rahi, Aur Aapke Saamne Gadhe ko Zinda kar ke Apni Qudrat kaa Mushaahida karaa diya, Gadhe Kee Haddiyo ko Hukm huwa jo Aapas mai Aakar Mil gayi, Aapke Saamne Un Haddiyo par Ghost chadaa kar Gadhe ko Aawaz di Ab Tum Zinda ho Jaao to Woh Zinda ho gaya.
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-352, 353)

SubhanAllah…
ALLAH TA’ALA kee Azeem Qudrat..
100 Saal tak Hazrat Uzair Alayhis Salaam par Mout Taari rahi… Aur 100 Saal tak Jisme Mubaarak koo Salaamat rakha Aur Inshaano, Jaanwaro, Parindo se vi Jisme Paak ko Chhupa rakha…..
Aur woh Gadha jo 100 Saal Pehle Marr chuka tha Jiske Jism par Ghost tak na raha, Jiske Jism kee Haddiya Alag Alag ho chuki thi Uss Gadhe ke Jism mai Waapis Haddiyo ko Jamaa karna Aur Uske Jism par Ghost chadhana Aur Fhir Use Bolne kee Quwwat deina.. Ye RABB TA’ALA kee Azeem Qudrat hai….
Beshak ALLAH TA’ALA Har Chaahe par Qaadir hai…

“Hazrat Uzair alahissalam”  kaa Ghar Tashreef lana :-

Hazrat Uzair Alayhis Salaam Zinda ho Kar Shahar mai Aaye to deikha Shahar to Pehle se Zyaada Achhe Tariqe se Aabad hai, Bani Israail ke Naye Naye Log vi jo Aap ke Baad Peida hue the, Aap par Jab Mout Musallat hui thi Uss Waqt Aapki Umar 40 Baras tak thi, Shahar se Baahar Jab Aap gaye the Aap ke Beite ki Umar 18 Baras thi, Ab Uski Umar 118 Baras thi, Balki Aap ke Poute vi Budhe ho chuke the Aap jab Apne Makaan mai Tashreef laaye to waha Aap kee Mulaaqat ek Budiyaa se hui jo Aap kee Khidmat Karti thi, Ab Uski Umar 120 Saal ho chuki thi, chalne se Aajiz ho chuki thi, Aankh kee Binaai khatm ho chuki thi,

“Hazrat Uzair alahis salaam”  ne Budiyaa se Puchha kee Uzair Ka yahi Makaan hai…? To woh Rone lagi Aur kehne lagi Itne Arshe ke Baad Uzair ka Naam Leine wala kon hai….? Woh to 100 saal se Gum ho chukaa hai, Aapne Fharmaya Mei hi Uzair hu, ALLAH TA’ALA ne Mujhe 100 Saal se Murda Rakh kar Zinda Fharma diya hai, Us Budiyaa ne kaha Agar Tum Sacch keh rahe ho to ALLAH TA’ALA se Duaa karo Kee Mujhe Nazr Ataa kare kee Mei Tumhe deikh kar Pehchaan Saku Aur is liye kee ALLAH TA’ALA Uzair Kee Duaa Qabul Fharmata tha Aap kee Duaa ke Qabul Hone kee wajah se vi Yaqeen Aajayega kee Tum hi Uzair ho,

Hazrat “Hazrat Uzair alahissalam”  ne Duaa Fharmaayi to Use Nazar Mil gayi Aur Uske Peir vi Thik ho gaye woh chalne ke kaabil ho gayi, Ab Usne Aap ko Pehchaan liya, Aap ke Saath Aapke Beite Aur Dusre Ahle Khana ke Paas laayi kee Uzair Aa gaye hai, Sab log Ta’ajub kar rahe the ki ye keishe ho sakta hai kee Uzair Alayhis Salaam 100 Saal Baad Aa gaye ho…? Us Budiyaa ne Bataya kee Tum Mujhe Nahi deikh rahe kee Mujhe inki Duaa se ALLAH TA’ALA ne Nazr Ataa kee Aur chalne ke Kaabil Banaa diya, Aapke Beite ne kaha Kee Meire Baap Ke Dono Kandho ke Darmiyaan Saaya(Black) Baal chaand kee Shakl mai the, Jab Aap ke Kandhe Mubaarak ko deikha gaya to Ushi tarah Baal Moujud the,


‘Bukhte Nasr’ ne Touraat Ke Tamaam Nuskhe(Parche/Prescription) jala diye the, Touraat Kisi ko Yaad nahi thi balki Pehle Kutub Sirf Ambiya Alayhis Salaam ko hi Yaad huwa karti thi, Logo ne kaha kee Agar Tum Uzair Alayhis Salaam ho to Touraat Sunaao…? Hazrat Uzair Alayhis Salaam ne Unhe Tamaam Touraat Lafz Lafz Likhwa di, Kishi ek Hurf(Lafz) ka vi Farq na Aane diya, Uss Waqt Ek Shaksh Bola kee Meine Dada se Suna tha kee ‘Bukhte Nasr’ ke Mulaazim kee wajah se Meire Dada ne Touraat ka Ek Nuskha Dafn kar diya tha, Hazrat Uzair Alayhis Salaam ne Uss Nuskhe ke Dafn kee jagah kee Nishaandahi(Pehchaan) Fharmaayi Jab woh Nuskha Nikala gaya to Uska Muqaabla Iss Nuskhe se kiya gaya jo Hazrat Uzair Alayhis Salaam ne Tehreer karaya(Likhwaya) tha, to Kisi ek Lafz ka vi Farq nahi paya gaya, Logo ne Aap ka Ye Mo’ajiza Deikh kar Aap ko ALLAH TA’ALA kaa Beita Kehna Suru kar diya.
(MaazAllah…)
(Roohul Maani, Jild-2, Hissa-2, Safa-24)
(Tafseere Khazin, Jild-1, Safa-279)
(Roohul Bayaan, Jild-1, Safa-508)
(Tazkiratul Aambiya Alayhis Salaam, Safa-351, 352)
Share:

Hazrat Daniyal Alaihis Salam ka wakiya | islamic stories and urdu stories

Hazrat Daniyal Alaihis Salam ka wakiya | islamic stories and urdu stories

Hazrat Daniyal Alaihis Salam ka wakiya | islamic stories and urdu stories
Hazrat Daniyal Alaihis Salam ka wakiya
Hazrat Daniyal Alaihis Salam kee Wilaadat ‘Bukhte Nasr’ kee Baadshaahi ke Zamaane mai hui, ‘Bukhte Nasr’ Jab Baadshah Bana to Ushe Kaahno(Paadriyo/Pujaariyo) ne Khabar di kee Teri Baadshahi Mai ek Baccha Peida hoga Jo Teri Baadshahi mai Kami kaa Sabab banega to Usne Peida hone Waale Baccho koo Qatl Karna Shuru kar diya, Jab Baccha Peida hota Ushe Qatl Kar diya jata, Jab Hazrat Daaneyaal Aalyhis Salaam kee Peidaaish hui to Unke Maa-Baap ne Unhe Jangal mai Chhod diya kee ho Sakta hai kee Baccha Qatl Hone se Bach jaaye, To ALLAH TA’ALA ne EK Sher Aur Unko Dhoodh Pilaane ke liye ek Sherni koo Muqarrar kar diya, Woh Dono Unko Ushi tarah Chaat-te the jeishe Jaanwar Apne Bacho ko Chaat-te hai.
(Tafseere Roohul Bayaan)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-353)

Hazrat Daniyal Alaihis Salam Kee Duaa :-

HUZOOR NABI E KAREEM Sallallaho Alayhe Wasallam ne Irshaad Fharmaya kee Hazrat Daniyal Alaihis Salamne Apne RABB se yeh Duaa kee thi kee Unhe MOHAMMAD Sallallaho Alayhe Wasallam kee Ummat mai Dafn kare, Jab Abu Musaa Ash’ari RadiAllaho Ta’ala Anho ne Qilaa Tustar Fateh kiya to Unhe Unke Taabut mai Isi Haal mai paya kee Unke Tamaam Jism Aur Gardan kee Sab Rage Baraaabar Chal rahi thi.
(Al Bidaya Wan Nihaya, Jild-2, Safa-41)

Hazrat Abul Aaliya RadiAllaho Ta’ala Anho se Marvi hai kee Jab Hamne Qilla Tustar Fateh kiya To Haramzaan ke ghar ke Maal wa Doulat mai ek Takht paya jis par ek Aadmi kee Mayyat rakhi hui thi Aur Uske Sar ke Qareeb ek Musahab(Khat) Tha, Hamne woh Musahab(Khat) utha kar Umar Bin Khattab RadiAllaho Ta’ala Anho kee Taraf Bheij diya, Hazrat Umar RadiAllaho Ta’ala Anho ne Hazrat Ka’ab RadiAllaho Ta’ala Anho ko Bulaya, Unhone Usko Arabi mai likh diya, Arab mai Mei Pehla Aadmi hu Jisne Usko Padha, Meine Quraane Paak kee Tarah Padha,

Abu Khaalid Bin Dinaar RadiAllaho Ta’ala Anho kehte hai kee Meine Abul Aaliya RadiAllaho Ta’ala Anho se kaha Usme Kya tha…? Unhone kaha Tumhaare Ahwaal waa Amur(Ma’amlaat) Aur Tumhaare kalaam ke Lahze Aur Aainda Hone waale Waaqiyaat, Meine kaha Tumne Uss Aadmi kaa kya kiya…? Unhone Jawaab diyaa Hamne Din ke Waqt Mutaffaraq(Alag Alag) Tour par 13 Qabre khodi, Jab Raat hui to Hamne Unhe Dafn kar diya Aur Tamaam Qabro koo Baraabar kar diya Taaki Logo se Chhupi rahe Aur koi Qabr se Nikaal na paaye, Meine Unhe Kaha Unse Logo kee Kya Ummide Waabasta(Judi) thi…? Unhone kaha Jab Baarish Ruk Jaati thi To Log Unke Takht ko Baahar le Aate the to Baarish Ho Jaati thi, Meine kaha Uss Mard ke Muta’alaq kya Gumaan rakhte the kee woh kon hai…? Unhone kaha Kee Unhe Daaneyaal kaha jata tha.
(Al Bidaya Wan Nihaya)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-354, 355)

SubhanAllah…
Hazrat Daniyal Alaihis Salam kaa Jisme Mubaarak kayi Saal Guzar Jaane ke Baad vi Sahi Salaamat raha Aur to Aur Unke Jisme Mubaarak kee Rage vi chal rahi thi… Beshak ye ALLAH TA’ALA kee Azeem Qudrat hai Aur jo Log Neik Bando ke Zinda Hone ke Munkir hai Unhe Iss Waaqiye se Nasihat Haasil karke Apni Islaah karni Chaahiye.
Share:

Amazing benefits of orange in hindi | संतरे के फायदे और नुकसान | orange juice

Amazing benefits of orange in hindi | संतरे के फायदे और नुकसान | orange juice

Amazing benefits of orange in hindi | संतरे के फायदे और नुकसान | orange juice
संतरे के फायदे और नुकसान

फलों में संतरा भी एक बड़ा उपयोगी फल है

फलों में संतरा भी एक बड़ा उपयोगी फल है, यह भी प्रकृति की एक अद्भुत देन है। यह कहां जन्मा? कई देश इसे अपने यहां का होने का गौरव प्रदान करते हैं। कुछ लोग चीन को संतरे का जन्म स्थल मानते हैं। भूमध्य सागर के तटवर्ती प्रदेशों तथा पश्चिमी देशों, भारत में यह फल प्राचीनकाल से पाया जाता है। दूसरी सदी में मिस्र, फिलिस्तीन और लेबनान-जैसे देशों में बड़े परिमाण में संतरा पैदा होने लगा। वहां इस फल के बड़े-बड़े बाग लगे होते थे। इसी समय दक्षिणी देशों में भी संतरा पैदा होने लगा। कहा जाता है कि स्पेन में सातवीं सदी में संतरा पहुंचा। यह स्पेन से ही कोलम्बस द्वारा नयी दुनिया में सन् 1433 में ले जाया गया। सत्रहवीं शताब्दी में संतरे का बीज सबसे पहले फ्लोरिडा में पहुंचा था। इसके बाद तो दक्षिण अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका और आस्ट्रेलिया में संतरे के बाग के बाग लगाये जाने लगे।
भारत में भूमध्य सागर के तटवर्ती प्रदेशों तथा पश्चिमी देशों में यह प्राचीनकाल से पाया जाता है। । केला, सेब, आम, पपीता, टमाटर आदि अनेक फलों को कच्चा हरा तोड़कर आधुनिक वैज्ञानिक रीतियों से कृत्रिम रूप से पकाया जाता है। कच्चे ही रूप में दूर-दूर तक बाहर भेजकर इससे लाभ कमाया जाता है। बड़ी-बड़ी मात्रा में ये फल विदेशों में निर्यात किये जाते हैं, किन्तु संतरा ही एक फल है, जो पूरी तरह से वृक्ष पर ही पकता है। रासायनिक उपायों से पकाये जाने वाले फलों में वह स्वाभाविक गुण नहीं रह जाता, जो कि प्राकृतिक रूप से पकने वाले फलों में पाया जाता है। प्रकृति स्वयं अपने आप अदभूत गुणों से युक्त फल पैदा करती है और पकाकर उन्हें परिपक्वावस्था प्रदान करती है। संतरा वृक्ष पर ही पकता है और पक जाने पर ही तोड़ा जाता है। अतः इसके प्राकृतिक गुण नष्ट नहीं होते हैं। कच्चा-हरा तोड़कर इसको पकाने की कोई विधि नहीं है। यही इसकी सबसे बड़ी विशेषता है। दूध में भी इतनी पौष्टिक शक्ति नहीं होती है, जितनी उसी के बराबर संतरे के रस में पायी जाती है। दूध देर से पचता है, जबकि संतरे का रस बहुत जल्दी खून में मिल जाता है। 

जो लोग एक जगह बैठकर काम करते हैं

जो लोग एक जगह बैठकर काम करते हैं, कम चलते-फिरते हैं, उन्हें संतरे का प्रयोग करना चाहिए, क्योंकि इससे पेट में किसी प्रकार का भारीपन नहीं होगा। अपच, मन्दाग्नि, गैस, भारीपन आदि को दूर करने में यह अचूक है।। यदि रात्रि में सोने से पूर्व और प्रात: उठते ही एक-दो ले लिये जायें, तो यह पेट की सफ़ाई के लिए बहुत ही उपयोगी होता है। चरक, सुश्रुत और भाव-प्रकाश आदि प्राचीन ग्रन्थों के मतानुसार संतरा खट्टा और मीठा दोनों ही प्रकार का उपयोगी होता है। यह भोजन में रुचि उत्पन्न करने वाला, विकारों को नष्ट करने वाला है। अधिक मात्रा में खाने पर कफ और पित्त बढ़ाने वाला, हृदय की शक्ति बढ़ाने वाला और कमजोर शरीरों को बल देने वाला होता है। इसके प्रयोग से निर्बल शरीर में स्फूर्ति का सञ्चार होता है।
संतरे का रस ज्वर के रोगी के लिए अत्यन्त लाभकारी है। यह रोगी की शक्ति को संतुलित रख मल-मूत्र निवारक है, जिससे न तो ज्वर में उपद्रव उत्पन्न होते हैं और न दुर्बलता का अनुभव होता है। इसके पीने से बार-बार लगने वाली प्यास भी शान्त हो जाती है। जिन व्यक्तियों को गरमियों में नकसीर फूटती है अथवा मुख, मल द्वारा रक्त बहता है, उन्हें संतरे का रस ठण्डक पहुंचाकर इस रोग में लाभ देता है। इसका रस बड़ा स्वादिष्ट और सुपाच्य होता है। इसकी खुशबू भी मनभावन होती है। भारत में जिन फलों का रासायनिक महत्त्व है, उसमें संतरा अपना विशेष स्थान रखता है। संतरा भिन्न-भिन्न नामों से लोकप्रिय है।

फ्लू होने पर।

फ्लू होने पर केवल संतरे का रस सेवन करने से शान्ति आती है। मलेरिया होने पर दो कप पानी में इसके छिलके उबालें। बाद में यह पानी पीने से मलेरिया शान्त होता है। श्वास रोग, टी.बी., हृदय के दर्द में संतरे का रस लाभदायक है। संतरे की खेती विशेष रूप से मध्यप्रदेश में नागपुर तथा राजस्थान में भवानी मण्डी, जिला झालावाड़ में विशेष रूप से होती है तथा यहां का संतरा समस्त भारत में विख्यात है। सिलहट (आसाम) तथा यू.पी. के पहाड़ी स्थानों (बागेश्वर) में भी होता है। प्रत्येक स्थान की भौगोलिक भिन्नता, खाद, जलवायु आदि की रद्दोबदल के कारण स्वाद में भिन्नता आ जाती है।
नागपुरी संतरा मध्यप्रान्त में उत्पन्न होता है। सिलहट का संतरा अथवा खसिया का संतरा आसाम प्रदेश में पाया जाता है। देशी संतरा पंजाब, देहली प्रान्त तथा उत्तर प्रदेश के पश्चिमी भागों में उत्पन्न होता है, जिसमें फुलाव तो है, किन्तु अन्दर से खाद्यांश बहुत कम निकलता है। स्वाद में यह कुछ अम्लता लिये हुए होता है। पूना के समीप पाया जाने वाला संतरा तथा कुर्ग मंसूर और नीलगिरी की पहाड़ियों में पाया जाने वाला संतरा प्रसिद्ध है। इन सब किस्मों में नागपुरी और सिलहट के संतरे को ही विशिष्ट माना गया है। झालावाड़ के भवानी मण्डी में पाया जाने वाला संतरा भी समूचे राजस्थान में अत्यन्त लोकप्रिय है। सभी लोग बड़े चाव से संतरे का सेवन करते हैं। इसकी फांकों का रस चूसते हैं और गूदा खा जाते हैं। फांकों में होने वाले बीज थूक दिये जाते हैं। यह बीज तिक्त होते हैं।
संतरा प्रकृति की सर्वाधिक उपयोगी देन है। इसका रस सुपाच्य है। इसे पचा हुआ भोजन कहा गया है, जो बच्चों तथा मरीजों को नि:संकोच दिया जा सकता है। यह नयी शक्ति और स्फूर्ति प्रदान करता है। इसका गूदा और रस बहुत जल्दी पच जाता है। यही कारण है कि थके-हारे, निर्बल, बीमार व्यक्तियों के लिए यह इतनी ताजगी और स्फूर्ति देने वाला है। यह जितना मीठा होता है, उतना ही पौष्टिक और भोजन की दृष्टि से शक्तिशाली माना गया है। एक गिलास संतरे का रस सारी भूख को मिटा देने की शक्ति रखता है। शिशु से लेकर 60-80 वर्ष तक का बूढ़ा इसे सरलता से हजम कर सकता है। संतरे का रस पेट में जाकर किसी प्रकार की खराबीं उत्पन्न नहीं करता है।

संतरे का रस ज्वरयुक्त रोगी के लिए अत्यन्त लाभकारी है।

संतरे का रस ज्वरयुक्त रोगी के लिए अत्यन्त लाभकारी है। यह रोगी की शक्ति को सन्तुलित रखते हुए मलमूत्र निस्सारक है, जिससे न तो ज्वर में अन्य उपद्रव उत्पन्न होते हैं और न दुर्बलता अनुभव होती है। इसे पीने से बारम्बार लगने वाली प्यास शान्त हो जाती है। जिन व्यक्तियों को गरमियों में नकसीर फूट पड़ती हो अथवा मुख द्वारा, मल द्वारा, मूत्र द्वारा रक्तस्राव होता हो, उन्हें संतरे का रस लाभ पहुंचाता है। इसका रस निकालकर उसमें थोड़ा नमक और काली मिर्च मिलाकर पीना चाहिए। नमक और काली मिर्च मिला देने से यह सुस्वादु होने के साथ-साथ शीघ्र पच भी जाता
। स्वस्थ अवस्था में झिल्ली समेत ही इसकी फांकों को खाना लाभदायक है। इस प्रकार सेवन करने से क़ब्ज़ नहीं हो पाता। यदि दैनिक भोजन के साथ-साथ दो-तीन संतरे प्रतिदिन खा लिये जायें, तो शरीर में कार्य करने की क्षमता बढ़ जाती है। काम करते हुए आलस्य पास नहीं आता है। उपवास के दिनों में संतरे के रस से काफ़ी सहारा मिलता है। यह क्षय हुई शक्ति प्रदान करता है। जो स्त्रियां या बच्चे दुर्बल हों, उन्हें भी शक्ति सञ्चय के लिए संतरे के रस का प्रयोग करना चाहिए।
वनौषधि चन्द्रोदय' नामक ग्रन्थ में प्रत्येक फल के रस की उपयोगिता का वर्णन है। संतरे के सम्बन्ध में लिखा है-'संतरे के फल में विटामिन 'ए' और 'बी' साधारण मात्रा में तथा विटामिन 'सी' प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। दस ग्राम संतरे के रस में विटामिन 'सी' 68 मिलीग्राम की मात्रा में पाया जाता है। अतः जिन लोगों की हड्डियां और दांत कमजोर हों, पायरिया को शिकायत हो, ब्लड प्रेशर हो, लकवा या गठिया की शिकायत हो, यदि गर्भवती स्त्री को उलटी हो रही हो, उन्हें संतरे के रस का निरन्तर और नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। इन तीनों विटामिनों के अतिरिक्त लोहे की मात्रा भी अच्छी पायी जाती है। 

इसका सेवन करने से खून में वृद्धि भी होती है।

इसका सेवन करने से खून में वृद्धि भी होती है। सामान्य दुर्बलता दूर करने के लिए संतरे का रस, चीनी, दालचीनी, नागकेसर, छोटी इलायची, प्रियंगु, काली मिर्च, पीपल, बायडिंग को एक चीनी के बर्तन में डालकर 21 दिन पड़ा रहने दें। फिर छानकर बोतलों में भर लें। दस ग्राम की मात्रा में बराबर का जल मिलाकर भोजन के बाद दोनों समय पीने से शरीर की दुर्बलता दूर हो जाती है। । बीमारी और बुखार की हालत में, जब कोई खाद्य-पदार्थ ग्रहण नहीं किया जा सकता है, तब संतरे का रस आश्चर्यजनक रूप से ताजगी लाता है।
और ताकत बनाये रखता है। यह बिना किसी खतरे के रोगी या कमजोर व्यक्ति को दिया जा सकता है। डॉक्टर भी इसका महत्त्व स्वीकार करते हैं। संतरे का रस निकालकर उसमें थोड़ा नमक और काली मिर्च मिला देने से यह सुस्वादु होने के साथ-साथ शीघ्र पचने वाला हो जाता है। स्वस्थ अवस्था में झिल्ली समेत ही इसकी फांकों को खाना लाभदायक होता है। पेट में संचित मल पदार्थों, कब्जियत आदि को दूर करने के लिए संतरे का प्रयोग सबसे बढ़िया ओषधि है। उपवास के दिन पेट के लिए बड़े नाजुक होते हैं और किसी भी गरिष्ठ पदार्थ से हानि होने की आशंका रहती है। उपवास काल में संतरे के रस से उपवासकर्ता को काफ़ी सहारा रहता है। बड़े-बड़े प्राकृतिक चिकित्सकों ने संतरे के रस को लेकर ही उपवास तोड़ा है। संतरे का रस खाली पेट में कोई उपद्रव नहीं करता है। अत: उत्तम स्वास्थ्य को लाने और पाचन क्रिया को नये सिरे से सक्रिय बनाने के लिए संतरे के रस का अधिकाधिक प्रयोग करना उचित है।
आयुर्वेद में संतरे के गुणों पर विस्तार से विचार किया है। इसे न केवल स्वास्थ्य के लिए प्रत्युत रोगों को दूर करने में भी उपयोगी पाया है। मीठे अथवा खट्-मिट्ठे संतरे का रस गुणकारी है। यह शीतल, बलवर्द्धक, अम्ल व मधुर, भूचल, विपघ्न, रुचिकारक, सुस्वादु और भूख लगाने वाला होता है। प्यास, ज्वर, वमन, पित्त, अतिसार, कृमि, पाण्डु इत्यादि अनेक रोगों को दूर करने वाला होता है। 

यह शरीर में ताजगी लाता है।

यह शरीर में ताजगी लाता है। रक्त में निखार आ जाता है। रक्त की सफ़ाई होने पर खूबसूरती बढ़ जाती है। जिनकी त्वचा काली, खुरदरी व खुश्क है, उनमें रक्त विकार समझना चाहिए। रक्त की शुद्धि होने से त्वचा में सुर्खा आती है। कान्ति बढ़ती है, आंत में रुका हुआ भोजन भी शीघ्र पचकर मल विकार दूर हो जाते हैं। क्षुधा बढ़ जाती है। इसीलिए जो नियमित रूप से ताजा संतरा इस्तेमाल करते हैं, उन्हें अपने अन्दर आश्चर्यजनक रूप से ताजगी अनुभव होती है। उनका सौन्दर्य बढ़ जाता है।
संतरा हृदय रोगों, वात विकारों तथा उदर के दोषों को दूर करने में विशेष रूप से लाभदायक होता है। क्षय आदि छाती के विकारों के लिए लाभकारी है। पेट के रोगियों को सर्वप्रथम इस फल का प्रयोग कर उसके बाद अन्य खाद्य-पदार्थ लेना लाभकर होता है। संतरे के गूदे की ऊपर की सफ़ेद झिल्ली जल्दी नहीं पचती। इसलिए संतरा खाने से पहले उसे निकाल फेंकना चाहिए। भोजन कर लेने के बाद संतरे का सेवन करना स्वास्थ्यवर्द्धक है। इसके रस में विटामिन 'ए' और विटामिन 'बी' साधारण मात्रा में तथा विटामिन 'सी' विशेष परिमाण में पाया जाता है। अत: इसका सेवन शरीर की प्रतिकारात्मक शक्ति को बढ़ाता है। बाह्य दूषित जीवाणुओं की विकारात्मक शक्ति का प्रतिकार करने में सहायक है।
इसके सेवन से संक्रामक रोग सहसा नहीं हो पाते। संतरे के रस में शर्करा, लुआब, साइट्रिक एसिड, साइट्रिक ऑफ़ पोटश 23% होता है। ताजे फल के छिलके में व पुष्प में एक प्रकार का हलका पीला सुगन्धित, कड़वा एवं उड़नशील तेल होता है, जिसे 'निरोली' कहते हैं। फल के छिलके में एक प्रकार का और स्थायी तेल पाया जाता है, जिसमें सपन, लाइमोनिन, हेस्पीरिडीन तथा औरेशिया मेरिन नामक तत्त्व घुले रहते हैं। इनके अतिरिक्त टेनिन व क्षार 4.5 प्रतिशत होते हैं। 

पेट के रोगों में संतरे को विशेष उपयोगी पाया गया है।

क़ब्ज़, इन्फ्लुएंजा, हिस्टीरिया, ज्वर तथा पेट के रोगों में संतरे को विशेष उपयोगी पाया गया है। वृक्ष-विज्ञान' पुस्तक में संतरे द्वारा कल्प करने का तरीका इस प्रकार दिया है-प्रथम दिन केवल 250 ग्राम संतरे का रस, एक ग्राम सेंधा नमक मिलाकर दोपहर को पिलायें। । दूसरे दिन 375 ग्राम और तीसरे दिन 500 ग्राम मात्र। इस तरह रोज 125 ग्राम संतरे का रस बढ़ाते हुए तीस दिन सेवन करें। नमक केवल एक ग्राम की मात्रा ही प्रतिदिन बढ़ायें। केवल अरुचि को मिटाने के लिए रस के स्वाद को बढ़ाने के लिए ही मिलायें, अन्यथा नहीं।
कल्प के दिनों में अन्न आदि लेना बन्द रखें। एक मास के बाद कल्प की समाप्ति के आगे भी संतरे का रस लेना जारी रखना ठीक होता है। फिर भोजनारम्भ के दिन सर्वप्रथम मूंग की दाल का पानी लें। उसके बाद धीरे-धीरे साधारण भोजन पर आ जायें। इस कल्प को विधिवत् कर वृक्क शोथ के अतिरिक्त मंदाग्नि, उदरशूल तथा पूरे शरीर का शोथ भी मिटता है। 

गरमी के मौसम में।

गरमी के मौसम में चारों ओर गरमी बढ़ जाती है और शरीर में खुश्की होती है, तो संतरे के रस का उपयोग करना स्वास्थ्य-शक्ति और शीतलता प्रदान करने वाला है। | 100 ग्राम संतरे के रस में 250 ग्राम खांड मिलाकर पकायें। जब शरबत की चाशनी हो जाये, तब आंच पर से उतारकर ठण्डा कर शीशियों में भर लें। आधा कप की मात्रा में जल मिलाकर सेवन करें। इस शरबत से गरमी की व्याकुलता नष्ट हो जाती है।
| जलोदर को दूर करने के लिए भी संतरे का उपयोग लाभदायक बताया गया है। जलोदर दूर करने के लिए संतरे की शिकंजवी बनाकर रख लेनी चाहिए। संतरे के रस में कासनी की जड़, छाल तथा ककड़ी के बीज व खीरा के बीज का चूर्ण मिला लें और रात-भर भीगा पड़ा रहने दें। प्रात:काल उसे धीमी आंच पर चढ़ाकर पकायें। जब पक जाये, तो छानकर सिरका मिलाकर पुनः पकायें। दस ग्राम की मात्रा में रोगी को दें। यह जलोदर के अतिरिक्त तेज ज्वर को भी कम करता है और खुश्की दूर करता है।
संतरे के छिलके का रस आंखों में पड़ जाने पर बहुत जोर से जलन पैदा । करता है, पर बाद में बड़ा ठण्डापन देता है। संतरे का छिलका भी उपयोगी है। इसे सुखाकर इसका चूर्ण बनाकर चेहरे पर लेप करने से कील, प्रशंमी, चेचक के दाग मिटते हैं, चेहरा कोमल और सुन्दर होता है तथा निखार आता है। यह सौन्दर्यवर्धन में सहायक है।
Share:

Hazrat musa alaihas salam ki Peidaaish ka wakiya Part 3 | islamic stories and urdu stories

Hazrat musa alaihas salam ki Peidaaish ka wakiya Part 3 | islamic stories and urdu stories

Hazrat musa alaihas salam ki Peidaaish ka wakiya Part 3 | islamic stories and urdu stories
Hazrat musa alaihas salam ki Peidaaish ka wakiya Part 3
Click Here>>Preview Page

Hazrat Musaa Alayhis Salaam kaa Firoun ke Paas Tashreef lana :-

Quraane Majeed mai hai kee
“To Usse Uthaa liya Firoun ke Gharwaalo ne kee wah Unka Dushman Aur Unpar Gam ho Beshak Firoun Aur Haamaan Aur Unke Laskar Khataakaar the, Aur Firoun kee Zouja(Biwi) ne kahaa Yah Baccha Meiri Aur Teiri Aankho kee Thandak hai Ise Qatl Naa karo Shaayad yah Hame Nafa’a de Yaa Ham Ise Beita Banaa le Aur who Be-khabar the”
(Surah Al Qasas, Aayat-8, 9)

Firoun kee Sirf Ek Beiti thi Aur Uss kee koi Aulaad na thi, woh Apni Beiti se Bahot Zyaada Mohabbat kiya karta tha, woh vi Har Rouz Apne Baap ke Paas 3 Haajaat(Zarurat) peish karti thi, woh Bahot Zyaada Barsh(Kodh) kee Bimaari mai Mubtilaa thi, Firoun ne Iske Baare mai Tabibo Aur Jaadugaro se Mashwaraa kiya, Unhone Kahaa Ay Baadshah ye Uss Waqt tak Thik nahi ho Sakti Jab tak Daryaa mai se Ek Insaan ke Mushaaba koi Chiz Na Paayi jaaye Aur Uska Loaab(Thook) Lekar Iske Barsh waale Maqaamaat par mali jaaye Fhir ye Thik ho Jaayegi Aur yeh Uss Waqt hoga Jab Falaa Din Aur Falaa Mahina ho Aur Suraj Khub Roushan ho, Jab wahi Din Aagaya to Firoun ne Daryaa ke Kinaare par Mehfil Sajaai Uske Saath Uski Zouja(Biwi) Aaasiyaa Binte Mazaaham vi thi(Firoun kee Zouja Bahot Neik Aurat thi, Ambiya Alayhis Salaam kee Nasl se thi, Garibo Aur Miskino par Raham karti thi) Firoun kee Beiti vi Apni Londiyo(Gulaamo) ke Saath Daryaa ke Kinaare par jaa kar Beith gayi, Daryaa-e-Neel se Ek Naher Firoun ke Mahlaat kee Taraf Aai hui thi, Usme Firoun kee Beiti Aur Uski Londiya(Gulaam) Nahaane lagi, Unhone Deikha Ek Taabut Daryaa ki Moujo mai Hichkole khaa rahaa hai Jo Ek Darakht(Peid) ke Saath Aakar Ruka hai, Firoun ne Hukm diya kee Jaldi se woh Taabut Meire Paas laya jaye, Kashti waale Logo ne Jaldi se woh Taabut Firoun ke Paas Peish kar Diya,

Unhone Koshis kee ke Usko Khoule, woh Kaamyaab Na hue, Fhir Todna Chaha Lekin Todne mai vi Kaamyaab Na hue, Firoun kee Zouja(Biwi) Aaasiyaa ko Uss Taabut ke Andar Ek Nour Chamkta huwa Nazar Aaya Jo Dusro ko dikhaai na diya, jab Aaasiyaa ne Taabut ko Khoulna Chaha to Khoul liya, Jisme Ek Chhota sa Baccha tha, Jiski Aankho ke Darmiyaan Ek Noor Chamak raha tha, ALLAH TA’ALA ne Logo ke Dilo mai Us Bacche kee Mohabbat Daal di, Firoun kee Beiti ne Us Bacche ka Luaab(Thook Mubaarak) Lekar Jab Apne Barsh waale Maqaamaat par Lagaaya to woh Usi Waqt Thik ho gayi, Usne Bacche ko Sine se Lagaya, Firoun ko Kuchh Logo ne kahaa ki yeh wahi Baccha Na ho Jis se Ham Bachna Chaahte hai Tumhaare Darki Wajah se Use Daryaa mai Feink diya gaya hoga, Firoun ne ye Soon kar Bacche ko Qatl karne ka Iraada kar liya Lekin Firoun kee Zouja(Biwi) Aaasiyaa ne Bacche kee Bakhshish Talab kee Aur Firoun ko Kahaa kee ye Baccha Pataa nahi Kis Sar-Zameen se Aaya hai Tumhaare liye Khatra Isi Mulk kaa Baccha hoga, Yeh Kitna Pyaara Baccha Aur Khubsurat hai, ye to Beita Banaane ke Qaabil hai, Ise Qatl nahi karna Hamaara Koi Beita nahi hai is liye Ham Ise Apna Beita Banaa leinge, Aaasiyaa kee ye Baat Firoun Aur Uski Qoum ke Logo ne Tasleem Karli, ALLAH TA’ALA ne Hazrat Musaa Alayhis Salaam ko Qatl hone se Bachaa liya,

Ek Qoul mai hai kee Hazrat Musaa Alayhis Salaam kee Aankh Mubaarak mai Aysi Malaahat, Khubsurati Aur Nooraaniyat rakhi gayi thi kee Jo vi Aapko deikhta wahi Aapse Mohabbat Karne Lagta.
(Tafseere Roohul Ma’ani, Jild-9, Hissa-1, Safa-189)
(Tafseere Kabeer, Jild-22, Safa-53)
(Tazkiratul Ambiya Alayhis Salaam, Safa-374, 375)

SubhanAllah…
ALLAH TA’ALA ne Hazrat Musaa Alayhis Salaam koo Qatl hone se Bachaa kar Apni Qudrat dikhaa di ki Jis Bacche ko Khatm karne kee Garaz se Tumne Hazzaro Bacche Zabah karaa diye Ise Meine Tumhaare Paas Pahoncha Diya hai Lekin Tum Use Na Zabah kar sake Aur Na hi kar Sakoge.

Click Here>>Next Page
Share:

Popular Posts

Recent Posts

Ambiya e karam ka full wakiya

Contact us

Name

Email *

Message *